एक छोटी सी कहानी जो समझा दे शब्दों का महत्व

बात करने में शब्दों का बहुत बड़ा योगदान हुआ करता है, एक ही बात हो हम अलग अलग ढंग से कह सकते हैं ताके लोग उस बात के साथ साथ बात करने वाले के Emotions को भी समझ पाएं प्रस्तुत है आइये आज हम आप को एक small story सुनते हैं जो शब्दों के महत्व को समझाता है।

एक छोटी सी कहानी जो समझा दे शब्दों का महत्व A Small Hindi Storyएक छोटी सी कहानी जो समझा दे शब्दों का महत्व। A Small Story

किसी इमारत के समक्ष एक अंधा अपनी टोपी को सामने रखे भीख मांग रहा था, साथ ही उसने एक तख्ती लगा रखी थी जिस पर लिखा था

“मैं अंधा हूँ मेरी सहायता कीजिए।”

घोषणाओं और उनकी महत्व जानने वाले एक व्यक्ति का उधर से गुजर हुआ जिसने देखा कि अंधा तो दयनीय है मगर उसकी टोपी में कुछ सिक्कों के सिवा कुछ भी नहीं है।

अंधे से पूछे बिना उसने तख्ती उठाई और पहले वाली लिखावट मिटा कर एक नई लिखावट लिख दी।

देखते ही देखते टोपी में सिक्के और नोट गिरना शुरू हो गए। अंधे ने महसूस किया कि कुछ परिवर्तन जरूर आई है और शायद आई भी इस पट्टिका की लिखावट है जिस पर वह कुछ लिखा जाना लगा था। एक पैसे डालने वाले से उसने पूछा उस तख्ती पर क्या लिखा है?

उसने बताया कि लिखा है,

“हम बहार के मौसम में रह रहे हैं, लेकिन मैं इस बहार की लाई हुई सौंदर्य को देखने से वंचित हूँ। ”

मनुष्यों को समझाने के लिए सही शब्दों का चुनाव आवश्यक है। 

हम आपका हमारे हिंदी कहानी संग्रह में स्वागत करते हैं आप इसे भी अवश्य पढने की कोशिश करें यह प्रेरणादायक कहान्यों का और small story का बेतरीन संग्रह है।
 ——————————————–
यदि आपके पास भी Hindi में कोई लेख, small story, प्रेरणादायक कहानी या उपयोगी जानकारी, Quotes हों जिसे आप Achibaten.com share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपने नाम, Facebook Address या अपने ब्लॉग यूआरएल (Blog URL) की जानकारी के साथ हमें absarhak@gmail.com पर E-mail करें। पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और आपके ब्लॉग की जानकारी के साथ यहाँ प्रकाशित करेंगे।
धन्यवाद
 ——————————————–

8 Comments

  1. googly September 16, 2015
  2. A. Tauhid January 26, 2016
  3. Parul Agrawal February 5, 2016
  4. Pushpendra Kumar Singh March 30, 2016
  5. Dharam September 23, 2016
  6. gyanipandit October 22, 2016
  7. LOKESH CHOUHAN January 7, 2017
  8. Vinay pal mastana January 11, 2017

Leave a Reply