You are here
Home > Hindi Stories > दुर्भाग्य और Power, Interesting Story in Hindi

दुर्भाग्य और Power, Interesting Story in Hindi

यदि कभी किसी reason से Unfortunate या दुर्भाग्य को Face करना पड़ जाए तो इंसान को हौसला बनाए रखना चाहए. Newton third law

“For every action, there is an equal and opposite reaction”

यानी प्रत्येक किर्या की पर्तिकिर्या होती है यह केवल गति का ही नियम नहीं है. यह World की समस्त किर्याओं पर भी लागु होता है. मसलन, पाप कर्म करते हुए पकडे जाने का भय पाप कर्म किर्या की पर्तिकिर्या के रूप में सामने आता है. ठीक इसी प्रकार जब व्यक्ति किसी दुर्भाग्य के हवाले होता है तो पर्तिकिर्या स्वरूप उसकी एनी Latent powers या छुपी हुई शक्तियां जाग्रत हो जाती हैं. आँखें खो देने वाले व्यक्ति की सुनने और छु कर Feel करने का Power Dramatically और चमत्कारिक रूप से बढ़ जाती है. सर्प में सुनने की शक्ति नहीं होती लेकिन स्पंदन को वह हवा में भी Feel कर सकता है.

दुर्भाग्य और Power, Interesting Story in Hindi

इंसान अपनी Physical deficiencies, शारीरिक कमयों को Body के अन्य Parts को Additional Power देकर Complete कर लेता है. यदि हम में से कोई दुर्भाग्य के चलते किसी कमी का शिकार हो जाता है तो उसे चाहए कि वह उस कमी को अपनी Power बना ले. ऐसी ही एक Interesting story यहाँ प्रस्तुत है जो हमारे लिए inspiration का स्रोत है:

दुर्भाग्य आपकी ताक़त बन सकती है Interesting Story

यह Interesting story Russia के एक विमान अभियंता (Aircraft Engineer)से Related है. प्रथम विश्वयुद्ध (First world war) चल रहा था. चरों ओर मार काट मची थी. लाखों लोगों को मौत अपने चंगुल में फंसा चूका था और अनगिनत लोग अपाहिज होते चले जा रहे थे. इस भीषण माहोल में यह Engineer भी रूस की ओर से इस world war में शामिल हुआ. दुर्भाग्य से युद्ध में उसे अपना एक पैर गंवाना पड़ा. महीनों तक वह Hospital में रहा. जब ठीक हुआ तो Doctors ने सलाह दी कि नकली पैर लगवा लें ताकि चलने फिरने में और अन्य कार्य करने में असुविधा न हो. उसने Doctors की सलाह मान कर नकली पैर लगवा लिया. अब वह easily चल फिर सकता था. एक दिन वह घायल लोगों को देखने गया. उसने पाया कि अंग-भंग हुए लोगों में पूर्णत: निराशा के भाव हैं तो उसने उनकी हौसला अफजाई की और कहा कि देखो मैं ने नकली पैर लगवा लिया है, अब मुझे कोई परिशानी नहीं है और तो और इस नकली पैर का सबसे बड़ा लाभ यह है कि चोट लगने पर उसका बिलकुल भी एहसास नहीं होता. यह कह कर उसने एक आदमी को बेंत देकर उसके पैर पर मारने के लिए कहा.

उस आदमी ने कास कर बेंत मारी.

Engineer मुस्कुरा कर बोला- देखो, मुझे ज़रा भी दर्द नहीं हो रहा.

उसके इस Actions पर उपस्थित Patients के मन से निराशा, Disappointment के भाव जाते रहे.

जब Engineer बहार निकला तो उसके चेहरे पर पीड़ा के भाव उभर आए.

क्यूंकि गलती से आदमी ने उसके असली पैर पर बेंत मर दी थी किन्तु अगले ही पल वह दोबारा मुस्कुरा कर आगे बढ़ गया.

Actually दुर्दशा को प्राप्त लोगों में जीवन के प्रति आशा जगाने के लिए कई बार स्वंय भी कष्ट सहन करना पड़ता है. लेकिन इससे हमेशा सकरात्मक परिणाम, Positive results ही सामने आता है.

याद रखें: वृक्ष तने से काटे जाने के बाद भी पुनः कोंपलों के माध्यम से फुट पड़ता है और एक दिन पहले से भी अधिक घाना होकर सामने आता है.

———————

आपको यह Interesting story कैसी लगी Comment करें. और अगर आपके पास भी Interesting story Type की कोई Story हो तो उसे हमारी Website में अवश्य जगह मिलेगी. आप उसे यहाँ जाकर Submit करें. हम उसे आपके नाम और आपके दुसरे Details के साथ यहाँ Post करने में ख़ुशी महसूस करेंगे.

Free Hindi EBook प्राप्त करने के लिए

अपना Email Enter करें

Absarul Haque
एक ब्लॉगर जो अपनी बातों को अच्छी बातों में बदलना चाहता है. और आपके सहयोग के बिना ये नामुमकिन है.
http://www.achibaten.com/

4 thoughts on “दुर्भाग्य और Power, Interesting Story in Hindi

Leave a Reply

Top
www.000webhost.com