Personal Development Success

दिलचस्प तरीका Negative Thoughts से छुटकारा पाने का

Negative Thoughts से छुटकारा पाने का दिल्चाप तरीका उम्मीद है लोगों को नकारात्मकता से निकालने में सफल रहेगा.

रास्ते पर कंकड़ ही कंकड़ हो तो भी एक अच्छा जूता पहनकर उस पर चला जा सकता है…

लेकिन यदि एक अच्छे जूते के अंदर एक भी कंकड़ हो तो एक अच्छी सड़क पर भी कुछ कदम भी चलना मुश्किल है…

यानी – “बाहर की चुनोतियों या Challenges से नहीं हम अपनी अंदर की कमजोरियों और Weaknesses के कारण हारते हैं…

बल्कि कमजोरियों से नहीं केवल एक कमजोरी की वजह से और वह है Negative Thoughts यानी नकारात्मकता.

दिलचस्प तरीका Negative Thoughts से छुटकारा पाने का

मैं ने एक Blog में एक बच्चे की Example पढ़ी थी और वह बिलकुल सटीक भी लगा था कि एक बच्चे के अन्दर Negative Thoughts न होने कि वजह से वह घिसटने कि कोशिश करता है और जब वह इस में कामयाब हो जाता है तो रुक नहीं जाता आगे बढ़ कर खड़ा होने कि कोशिश करता है, चलता है, दौड़ने लगता है.

सोचये…! अगर उसके अन्दर भी Negative Thoughts आ जाता तो क्या होता?

पूरी दुनिया को वह अपने पैरों पर चलता हुआ देखता और स्वंय को Helpless…

तो क्या वह अपने पैरों का सही इस्तेमाल जान पाता, कर पाता?

किसी ने बिलकुल ठीक ही कहा है:

इंसान को दो चीजें आगा बढ़ने नहीं देतीं, पैर में मोच और छोटी सोच.

यहाँ छोटी सोच से उसका मतलब भी Negative Thoughts ही है.

बहरहाल हम Negative Thoughts से होने वाले नुकसान पर बहस करने नहीं बैठे हैं उसपर:

बात अगर निकलेगी गी तो दूर तलक जाएगी

Question यह है कि Negative Thoughts  यानि नकारात्मकता से छुटकारा कैसे पाया जाए?

इस पर बहुत कम ही लोग सलाह देते हुए दिखाई पड़ते हैं. मैं ने Internet पर Search करके देखा है. Achhikhabar और Gyanipandit जैसे Blog की सलाह काफी पसंद आए और मैं ने उसे Try भी किया लेकिन जो लाभ मिलना चाहिए (हो सकता है मैं ने बिलकुल वैसा न किया हो जैसा वो कह रहे हैं) उससे वंचित रहा.

फिर मेरी सुस्ती कि मैं ने उस पर ध्यान देना बंद कर दिया (मज़े की बात है कि जिन के अन्दर भी Negative Thoughts होता है अक्सर वह ऐसा ही करते हैं.)

लेकिन एक दिन अचानक ही किसी Novel को पढ़ते हुए मेरा ध्यान एक शानदार विधि की तरफ गया जिसे मैं यहाँ आप लोगों के साथ Share कर रहा हूँ. इस तरीके की Specialty यह है कि ये एक External प्रयास है Internal नहीं.

आप से Request है आप भी इसे अवश्य Check करें और ये आप के लिए किस हद तक लाभदायक है, या है भी या नहीं ज़रूर बतलाएं.

Step 1. एक छोटी सी Dairy ले लें और उसमें छोटे छोटे Box बना लें.

Step 2. उस Dairy को हमेशा अपनी Pocket में रखें.

Step 3. जब भी आप शब्द “न, नहीं” कहें एक Box में टिक लगा दें. याद रखें शब्द से मतलब है मतलब से मतलब नहीं.

अगर कोई आप से पूछे, फलां को देखा है? और आप का उत्तर “न” हो तब भी एक टिक लगा दें.

अगर कभी टिक लगाना भूल जाएं तो Dairy को बंद कर के रख न दें बल्कि जो छुट गया वो छुट गया उसे पलट कर देखने की आवश्यकता नहीं.

Step 4. प्रतिदिन एक Time Set कर लें जिस में आप को गिनना है कि आज आप ने कितनी बार “न या नहीं” कहा है.

दुसरे दिन पिछले दिन से केवल एक बार कम “न या नहीं” कहने का प्रयास करे. शुरू शुरू में ये मुश्किल होगा लेकिन धीरे धीरे आप इस में सफल होते चले जाएंगे. केवल प्रयास करना ही आप का काम है सफल होना नहीं. अगर पिछले दिन से अधिक “न” का प्रयोग हो जाता है तो तीसरे दिन प्रयास करें.

मुझे विश्वास है कि ये छोटी सी कोशिश आपको वो दिलाएगा जो आपके लिए आपके जीवन में सब से अधिक महत्वपूर्ण है.

Negative Thoughts से छुटकरा पाने का तरीका अगर आप को लाभदायक लगता है तो Comment अवश्य करें और अगर नहीं लगता है तब तो आप का Comment बहुत ज़रूरी है ताकि मैं अपनी इस लेख में सुधर कर पाऊं.

  1. How to Say “NO” “न” कैसे कहें
  2. Positive Thinking Quotes in Hindi सकारात्मक
  3. How to Become a Hero अपना हीरो खुद बनें

UPTO
50%
Cash-Back
Deal
Recharge using any payment method and get a 50% cashback; The total cashback that a customer can avail during the offer period is INR 50; The Offer is applicable for both new and existing customers; Shop with Amazon Pay balance only for the eligible products and get Rs.50 cashback. (b) The cashback amount will be credited to the eligible customer's account as Amazon Pay balance There is no minimum recharge value required to be eligible for the offer More Less

About the author

Absarul Haque

एक ब्लॉगर जो अपनी बातों को अच्छी बातों में बदलना चाहता है. और आपके सहयोग के बिना ये नामुमकिन है.

Leave a Comment

4 Comments