Personal Development

Fears in Life Hindi Essay, डर के आगे…

Fears in Life Hindi Essay, डर के आगे...

यह सच है कि युवाओं के अंदर कुछ असाधारण कर गुजरने की अपार क्षमता छिपी होती हैं और वे किसी भी Field में Unique position प्राप्त करने की भरपूर कोशिश करते दिखाई देते हैं.

Society में अपने Goal को प्राप्त कर लेने के बाद कामयाबी के साथ आराम और सुकून प्राप्त करते हैं, और ऐसा तभी संभव है जब उनमें आत्मविश्वास यानी Self-confidence और अपने आप पर पूरा भरोसा हो.

किसी भी Field को Select कर लेने के बाद पीछे की ओर देखने के बजाय आगे से आगे बढ़ते रहने की कोशिश में मगन रहें तो ही Success हो सकते है. मगर दुर्भाग्य से मनुष्य के अवचेतन में एक ऐसी चीज़ भी मौजूद होती है जो उसे आगे की ओर जाने से रोकती है जिसे हम ” अनजाना डर ” के नाम से जानते हैं और यही ” अनजाना भय ” पैर की ज़ंजीर बनकर मनुष्य आगे की ओर बढ़ने से रोके रखता है.

An Examples

Examples के लिए यदि कोई अभी Education के Field में जुटा है और Medical college में Admission लेने की इच्छा रखता है और अंदर मन में मौजूद मनुष्य उसे अंदर से अशंकाओं में डाल दे कि इसका Courses थोड़ा कठिन और मुश्किल है, और आप इस में सफल न हो सके तो फिर क्या होगा?

ऐसी सूरत में यदि सफलता न मिल पाई तो पैसे के साथ Time की भी Wasting होगी. इसी तरह और भी कई Field को Select करने से युवा परहेज करते दिखाई देते हैं जिसकी वजह यही होती कि उसके अंदर मौजूद एक ” अनजाना सा डर ” उसे आगे नहीं बढ़ने देता.

दुनिया में कोई भी चीज Impossible नहीं लेकिन मुश्किल जरूर है. बस जरूरत इस बात की है कि युवा में आत्मविश्वास हो,

अपने आत्मविश्वास कैसे पैदा करें?

यह आत्मविश्वास अपने Parents, और बड़ों के साथ आपसी सलाह के साथ साथ सकारात्मक सोच और खुद से किसी काम के लिए मंसूबा बंदी करने की आदत से पैदा होता है. किसी भी काम को इंसान अपने अंदर मौजूद आत्म विश्वास के Through ही बेहतर ढंग पूरा कर सकता है.

और अगर कोई भी काम करने से पहले ही युवा ” अनजाने डर ” के कारण यह बात दिमाग़ में बिठा ले कि मैं फलां काम नहीं कर पाऊंगा तो इससे न केवल वह खुद को पीछे की ओर धकेल रहा है बल्कि अपने Future को भी अपने ही हाथों से अंधेरा कर रहा है.

आत्मविश्वास के साथ आगे बढ़ते रहना चाहए! हाँ यह ज़रूर है कि युवक का कोई भी रचनात्मक प्रक्रिया Experience न होने के कारण सम्पूर्ण नहीं हो सकता, कोई न कोई कमी या सुधार की गुंजाइश रह जाना Natural बात है.

Parentsकी क्या ज़िम्मेदारी है?

Parents पर भी यह भारी ज़िम्मेदारी बनती है कि बच्चों में छिपे Abilities को खोजकर हर समय उनके Guide करते रहें उन्हें उत्साहित करते रहें, यह समझाने की चेष्टा करें कि वह दुनिया का कोई भी सकारात्मक काम करने के पात्र हैं. यदि उनका बच्चा कोई सकारात्मक काम करना चाह रहा है और उसके दिल में “अनजाना भय” मौजूद है तो माता पिता पर ज़िम्मेदारी बनती है कि वह उसका उसका भी पता लगाने की कोशिश करें. क्यूंकि वह अनुभवी हैं.

और उसके सामने उस काम को इस तरह Define करें कि यह काम करना कोई बड़ी समस्या नहीं बल्कि इस काम तो वह जिन लोगों ने उसे किया है उनकी की तुलना में बेहतर ढंग से कर सकता है. माता-पिता की यह प्रेरित उनके लिए नया जोश नया रोमांचक बन सकती है और वह लगन के साथ अपने Goal के लिए Struggle कर सकते हैं.

आज की उपलब्धि

गौरतलब बात है कि आज का युवा पिछले कई दशकों पहले के युवाओं तुलना में अधिक Powerful, Talented और कुशल है, क्योंकि Internet के इस युग ने मंजिल खुद युवाओं के क़दमों पर खड़ा है. इस दौर में मन में इस बात का वास कर लेना कि ” फलां ” काम मैं नहीं कर पाऊंगा, अपने अंदर मौजूद ” अनजाने डर ” को प्रोत्साहित करने के बराबर है.

साथ ही साथ अनावश्यक भावना जिसे हम “कुछ नहीं करने का ‘भय” भी कहते हैं, उसे भी उनके मन से नोच कर बाहर फेंकने की आवश्यकता है ताकि अपनी मंज़िल की मार्ग को अपने अंदर छिपे बेपनाह ताकत और क्षमता का एहसास करते हुए हमवार कर सकें और अगर ऐसा नहीं किया गया तो मन के अंदर मौजूद यह भय उनके भविष्य के साथ साथ उनकी पहचान के लिए भी जहर साबित होगा.

Urdu से Translated

UPTO
50%
Cash-Back
Deal
Recharge using any payment method and get a 50% cashback; The total cashback that a customer can avail during the offer period is INR 50; The Offer is applicable for both new and existing customers; Shop with Amazon Pay balance only for the eligible products and get Rs.50 cashback. (b) The cashback amount will be credited to the eligible customer's account as Amazon Pay balance There is no minimum recharge value required to be eligible for the offer More Less

About the author

Absarul Haque

एक ब्लॉगर जो अपनी बातों को अच्छी बातों में बदलना चाहता है. और आपके सहयोग के बिना ये नामुमकिन है.

Leave a Comment